Access Point in Hindi | एक्सेस पॉइंट क्या है?

Access Point Kya Hai In Hindi : दोस्तों यदि आप इंटरनेट का उपयोग करते हैं तो आपके सामने कभी ना कभी Access Point का जिक्र जरूर हुआ होगा। क्या आप जानते हैं Access Point क्या होता है? Access Point कैसे काम करता है? और Access Point कहा पर उपयोग किया जाता है।

पॉइंट क्या है एक्सेस पॉइंट काम कैसे करता है

यदि आपको एक्सेस प्वाइंट के बारे में यह सब जानकारी नहीं है तो आप इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें क्योंकि इस आर्टिकल में हम Access Point के बारे में आपको विस्तार पूर्वक जानकारी देने वाले हैं तो चलिए शुरू करते हैं और पढ़ते हैं कि आखिर एक्सेस प्वाइंट क्या होता है?

एक्सेस पॉइंट क्या है? (Access Point in Hindi)

एक ऐसा नेटवर्किंग डिवाइस जो कि Wireless डिवाइस को किसी नेटवर्क से कनेक्ट करने में उस डिवाइस की मदद करता है वह एक्सेस प्वाइंट कहलाता है, यह Access Point वायरलेस राउटर की तरह ही होता है। अभी के समय में ज्यादातर राउटर में एक्सेस प्वाइंट को इनबिल्ड कर दिया जाता है।

कंप्यूटर तथा नेटवर्किंग डिवाइस को आपस में जोड़ने के लिए तारों की जगह पर Access Point का प्रयोग सरल और आसान माना जाता है। Access Point का प्रयोग LAN कनेक्टिविटी के लिए किया जाता है लोकल एरिया नेटवर्क में एक्सेस प्वाइंट का महत्वपूर्ण योगदान होता है। 

यदि हम सरल भाषा में Access Point के बारे में समझे तो हम एक वायरलेस राउटर की तरह मान सकते हैं जिसमें राउटर के जैसे गुण भी होते हैं और उसकी रेंज राउटर से भी ज्यादा होती है तथा एक्सेस प्वाइंट बहुत अधिक नेटवर्क ट्रैफिक को भी कंट्रोल हैंडल कर सकता है।

एक्सेस पॉइंट काम कैसे करता है (Access Point Work In Hindi)

एक्सेस प्वाइंट राउटर स्विच या हब तथा इथरनेट केबल के द्वारा जुड़कर कार्य करता है यह वायरलेस डिवाइस को लोकल एरिया नेटवर्क से इंटरनेट को कनेक्ट करने की अनुमति प्रदान करता है।

Access Point कैसे कार्य करता है इसको हम एक उदाहरण के द्वारा समझ सकते हैं मान लीजिए कि आप एक बड़ी बिल्डिंग के सबसे ऊपरी हिस्से में रहते हैं और बिल्डिंग में एक राउटर लगाया गया है जिससे आप अपने सभी डिवाइस को कनेक्ट करना चाहते हैं परंतु एक सीमित दूरी होने के कारण आप राउटर की रेंज तक पहुंचने में असमर्थ होने की वजह से वाईफाई को कनेक्ट नहीं कर पा रहे हैं।

तो इसमें आप एक्सेस प्वाइंट का प्रयोग कर सकते हैं इथरनेट केबल का प्रयोग करके अपने डिवाइस को वाईफाई के द्वारा कनेक्ट कर सकते हैं।

एक्सेस पॉइंट कॉन्फ़िगरेशन के प्रकार

एक्सेस प्वाइंट के तीन प्रकार होते हैं जिनको आप निम्नलिखित देख सकते हैं।

Root Access Point (रूट एक्सेस पॉइंट)

रूट एक्सेस प्वाइंट कॉन्फ़िगरेशन एक एक्सेस प्वाइंट वायर LAN से जुड़ा होता है और वायरलेस यूजर के लिए कनेक्शन प्रदान करता है।

Repeater Access Point (रिपीटर एक्सेस पॉइंट)

एक रिपीटर एक्सेस प्वाइंट या किसी अन्य रिपीटर जो कि बर्ड नेटवर्क के द्वारा जुड़े होते हैं को डाटा भेजते हैं फिर वायरलेस user और वायर्ड नेटवर्क के बीच ट्रैफिक सेंड करता है।

Bridge Access Point (ब्रिज एक्सेस पॉइंट)

ब्रिज एक्सेस प्वाइंट में एक्सेस प्वाइंट को कई नेटवर्क में जोड़ने के लिए रूट और नॉन रूट ब्रिज के रूप में कॉन्फ़िगर कर सकते हैं।

एक्सेस प्वाइंट का प्रयोग कहां किया जाता है?

आमतौर पर एक्सेस पॉइंट का उपयोग बड़ी इमारतों, स्कूल, कॉलेज या फिर बड़े संगठनों में किया जाता है एक्सेस प्वाइंट के द्वारा लोकल एरिया नेटवर्क की सीमा बढ़ा सकते हैं और नेटवर्क के द्वारा कई सारे डिवाइस को कनेक्ट कर सकते हैं।

Access Point और Router में अंतर

वैसे तो Access Point और Router के कार्य लगभग एक जैसे हैं परंतु दोनों एक दूसरे से काफी अलग होते हैं और इनमें कुछ अंतर भी होते हैं जिनके बारे में आप निम्नलिखित देख सकते हैं।

Access PointRouter
1. Access Point मुख्य रूप से Wireless डिवाइस जैसे लैपटॉप, टेबलेट, स्मार्टफोन इत्यादि में कनेक्टिविटी की सुविधा प्रदान करते हैं।एक Router कई डिवाइस के लिए वायरलेस कनेक्टिविटी की सुविधा प्रदान करते हैं।
2. Access Point Wireless Router की तरह कार्य नहीं कर सकते हैं।राउटर Access Point की तरह कार्य कर सकता है।
3. Access Point का प्रयोग ऊंची इमारतों, बड़े बिजनेस, बड़े स्कूल या कॉलेज इत्यादि में किया जाता है।Wireless Router का प्रयोग घर, छोटे संगठनों इत्यादि में किया जाता है।
4. एक्सेस प्वाइंट लोकल एरिया नेटवर्क के अंदर एक Sub- डिवाइस होता है जो wireless डिवाइस को कनेक्ट करने के लिए लोकेशन सेंड करता है।राउटर एक तरह से Hub के रूप में काम करते हैं जो लोकल एरिया नेटवर्क स्थापित करते हैं।

एक्सेस पॉइंट के फायदे (Advantage Of Access Point In Hindi)

  • Access Point के द्वारा हम अधिक दूरी तक इंटरनेट का एक्सेस कर सकते हैं जबकि एक साधारण राउटर सिर्फ कुछ दूरी तक इंटरनेट का एक्सेस प्रोवाइड करता है।
  • Access Point का प्रयोग एक बड़े क्षेत्र में इंटरनेट कनेक्टिविटी को पहुंचाने के लिए किया जा सकता है।
  • एक्सेस प्वाइंट काफी बड़ी मात्रा में नेटवर्क ट्रेफिक को हैंडल कर लेता है।
  • एक्सेस प्वाइंट के द्वारा हम 100 मीटर से लेकर 300 मीटर तक की दूरी तक इंटरनेट का एक्सेस कर सकते हैं।

एक्सेस पॉइंट के नुकसान (Disadvantage Of Access Point In Hindi)

  • एक्सेस प्वाइंट को इंस्टॉल करने के लिए अधिक पैसा खर्च करना पड़ता है क्योंकि यह राउटर की अपेक्षा महंगा मिलता है।
  • यदि आप एक्सेस प्वाइंट का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको ईथरनेट केबल, कंट्रोलर जैसे कई उपकरणों की आवश्यकता पड़ती है।
  • Wireless Network केबल नेटवर्क की अपेक्षा ज्यादा तेज और स्थिर नहीं रहता है जबकि Wired नेटवर्क अधिक तेज माना जाता है।

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हमने आपको एक्सेस प्वाइंट क्या है? एक्सेस पॉइंट कैसे कार्य करता है? तथा इसकी आवश्यकता कहां पाई जाती है इसके बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी प्रदान की है। यदि आपको इस आर्टिकल में दी गई Access Point के बारे में यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और यदि आप ईसी प्रकार की महत्वपूर्ण जानकारी पाना चाहते हैं तो नोटिफिकेशन बेल को जरूर सब्सक्राइब करें।

ये भी पढ़े –

FAQ

एक्सेस प्वाइंट किसे कहते हैं?

एक ऐसा नेटवर्किंग डिवाइस जो कि Wireless डिवाइस को किसी नेटवर्क से कनेक्ट करने में उस डिवाइस की मदद करता है वह एक्सेस प्वाइंट कहलाता है।

एक्सेस प्वाइंट के क्या कार्य हैं?

एक्सेस प्वाइंट ऐसा उपकरण है जो wireless Local area network का निर्माण करता है आम तौर पर इसका कार्य बड़ी इमारत तक इथरनेट केबल के माध्यम से इंटरनेट पहुंचाना होता है।

एक्सेस प्वाइंट कैसे स्थापित करें?

Router से एक्सेस प्वाइंट को स्थापित करने के लिए ईथरनेट केबल को लोकल एरिया नेटवर्क से कनेक्ट किया जाता है।

हब और स्विच में क्या अंतर है?

Hub और स्विच दोनों नेटवर्क डिवाइस होते हैं जो कि एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस को नेटवर्क के माध्यम से कनेक्ट होने में मदद करते हैं hub फिजिकल लेयर पर कार्य करता है जबकि स्वच्छ डाटा लिंक लेयर पर कार्य करता है।

Sharing Is Caring:

Leave a comment