IP Address क्या है? IP Address के प्रकार और उपयोग

IP Address kya hai: दोस्तों यदि आप भी इंटरनेट का उपयोग करते हैं जिसका उपयोग आप किसी स्मार्टफोन या कंप्यूटर के द्वारा करते हैं तो इस आर्टिकल में दी गई जानकारी आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है दोस्तों प्रत्येक स्मार्टफोन या फिर कोई कंप्यूटर जो इंटरनेट से जुड़ा रहता है उसका एक एड्रेस होता है जिसको हम आईपी एड्रेस के नाम से जानते हैं।

IP Address KYA HAI
IP Address Kya Hai

दोस्तों क्या आप जानते हैं आईपी एड्रेस क्या है? और आईपी एड्रेस का पता कैसे कर सकते हैं? आपने आईपी एड्रेस के बारे में कई बार सुना होगा और आपके दिमाग में कई बार आया होगा कि आखिर आईपी एड्रेस होता क्या है? यदि आपको नहीं पता कि आई पी एड्रेस क्या होता है? तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें आपको ip-address से संबंधित संपूर्ण जानकारी इस आर्टिकल में मिल जाएगी।

IP Address क्या है? (What is IP Address in Hindi)

दोस्तों प्रत्येक डिवाइस का एक एड्रेस होता है जिसे हम IP Address के नाम से जानते है असल में आईपी एड्रेस संख्याओं का एक समूह होता है जो एक डिजिटल एड्रेस की तरह कार्य करता है। हर एक डिवाइस का आईपी ऐड्रेस अलग-अलग होता है तथा आईपी एड्रेस से ही प्रत्येक डिवाइस की पहचान होती है।

दोस्तों आज के समय में इंटरनेट का विकास बहुत ही तेजी से हो रहा है तथा इंटरनेट की मदद से आज हम किसी भी स्थान से किसी भी प्रकार के डाटा को दूसरे स्थान पर पलक झपकते ही भेज सकते हैं परंतु यह कैसे संभव होता है क्या इसके बारे में आपने कभी सोचा है। 

दोस्तों जिस प्रकार से हमारा एड्रेस हमारे घर का पता होता है कि उसी प्रकार से आईपी एड्रेस हर कंप्यूटर अथवा स्मार्टफोन जो इंटरनेट से कनेक्ट है उसका पता होता है। प्रत्येक स्मार्टफोन अथवा कंप्यूटर का आईपी ऐड्रेस अलग-अलग होता है यह इंटरनेट पर प्रत्येक डिवाइस की एक अलग पहचान होता है आईपी एड्रेस एक यूनिक नंबर होता है जिसकी मदद से यह पता लगाया जा सकता है कि इस्तेमाल होने वाला स्मार्टफोन व कंप्यूटर कहां से ऑपरेट किया जा रहा है।

जब आप इंटरनेट से अपने ब्राउज़र पर कुछ भी सर्च करते हैं तो राउटर आईपी ऐड्रेस के माध्यम से ही आपके डाटा को आपके कंप्यूटर तक पहुंचाने का कार्य करता है। आईपी एड्रेस के बिना कोई भी डिवाइस इंटरनेट से कनेक्ट नहीं हो सकता है। साधारण शब्दों में समझें तो आईपी ऐड्रेस किसी भी स्मार्टफोन अथवा कंप्यूटर के घर का पता होता है जिसकी बिना इंटरनेट से कुछ भी कार्य नहीं किया जा सकता है।

आईपी एड्रेस का पूरा नाम (IP Address Full Form in Hindi)

दोस्तों यदि आपको IP Address का पूरा नाम नहीं पता है तो हम आपको बताते हैं कि आई पी एड्रेस का पूरा नाम Internet Protocol Address होता है आईपी एड्रेस के दो वर्जन अभी तक लॉन्च हो चुके हैं जिनके बारे में आपको जानकारी निम्नलिखित दी जाएगी।

आईपी एड्रेस के वर्जन (Version of IP Address in Hindi)

दोस्तों आईपी एड्रेस के अभी तक 2 वर्जन लांच किए जा चुके हैं जो कि निम्नलिखित दिए गए हैं-

  • IPv4 (आईपी वी4)
  • IPv6 (आईपी वी6)

IPv4 क्या है?

IPv4 आईपी एड्रेस का पहला वर्जन है जिसको सन 1983 में बनाया गया था, IPv4 Version में 32 Bit होते हैं तथा यह दशमलव की मदद से चार भागों में बटे होते हैं तथा इनमें हर एक Range 0 से लेकर 255 के मध्य में होती है। IPv4 आईपी ऐड्रेस यूजर्स को कुछ इस 192.107.352.1 प्रकार से दिखाई देता है, इस वर्जन में असीमित IP Address नहीं बनाए जा सकते हैं।

IPv6 क्या है?

दोस्तों जैसा कि आपको पता है कि पहले आईपी एड्रेस वर्जन के हिसाब से बहुत अधिक आईपी एड्रेस नहीं बनाए जा सकते थे इसलिए इंटरनेट यूजर्स की संख्या बहुत अधिक बढ़ने के कारण IP Address के दूसरे वर्जन IPv6 की शुरुआत की गई।

इस वर्जन के आईपी ऐड्रेस से असीमित आईपी एड्रेस बनाए जा सकते हैं तथा इस IP Address को एक बहुत एडवांस IP Address माना जाता है तथा इस आईपी एड्रेस में 128 Bit होते हैं जिनको कोलन के माध्यम से 8 भागों में विभाजित किया गया है इस प्रकार के आईपी ऐड्रेस कुछ इस 2409:4063:2092:690d:5d7:d483:197b:e4d तरह से दिखाई देते हैं। 

आईपी एड्रेस कितने प्रकार के होते हैं (Types of IP Address in Hindi)

दोस्तों यदि हम बात करें IP Address के प्रकार के बारे में तो इनको मुख्य रूप से चार प्रकार से बांटा गया है जिनको आप निम्नलिखित देख सकते हैं –

  • Private IP Address (प्राइवेट आईपी एड्रेस)
  • Public IP Address (पब्लिक आईपी एड्रेस)
  • Static IP Address (स्टेटिक आईपी एड्रेस)
  • Dynamic IP Address (डायनेमिक आईपी एड्रेस)

1. Private IP Address (प्राइवेट आईपी एड्रेस)

ऐसा आईपी एड्रेस जो नेटवर्क रूटर आपके डिवाइस को Assign करता है उस प्रकार के आईपी एड्रेस Private IP Address कहलाते हैं इसमें एक नेटवर्क के अंदर प्रत्येक डिवाइस को अलग-अलग IP Address दिए जाते हैं और इस तरह से एक प्राइवेट नेटवर्क के अंदर सभी डिवाइस एक दूसरे से कनेक्ट करते हैं प्राइवेट आईपी ऐड्रेस आपके ऑफिस या घर के नेटवर्क को सुरक्षित रखते हैं।

2. Public IP Address (पब्लिक आईपी एड्रेस)

ऐसे आईपी एड्रेस जो ISP( इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर) के द्वारा आपकी डिवाइस या नेटवर्क रूटर को Assign किए जाते हैं उन आईपी ऐड्रेस को Public IP Address कहते हैं हालांकि आपके डिवाइस का एक अपना आईपी एड्रेस होता है परंतु जब आप इंटरनेट कनेक्ट करते हैं तो ISP के द्वारा आपके डिवाइस को एक Public IP Address से कनेक्ट कर दिया जाता है जो कि आपके डिवाइस के आईपी एड्रेस की जगह ले लेता है तथा राउटर का पब्लिक आईपी ऐड्रेस दिखाई देता है।

3. Static IP Address (स्टेटिक आईपी एड्रेस)

ऐसे आईपी एड्रेस जो एक कंप्यूटर नेटवर्क में मैनुअली क्रिएट किए गए होते हैं उन आई पी ऐड्रेस को Static IP Address कहा जाता है।

4. Dynamic IP Address (डायनेमिक आईपी एड्रेस)

ऐसे आईपी एड्रेस जो समय-समय पर बदलते रहते हैं डायनेमिक आईपी ऐड्रेस कहलाते हैं यह एक ऐसा आईपी एड्रेस होता है जो स्वयं Assign होता है रहता है तथा जिस समय आप पब्लिक इंटरनेट का प्रयोग करते हैं तब आपको Dynamic IP Address Assign किया जाता है जोकि कुछ समय तक ही मान्य रहता है।

अपना आईपी एड्रेस कैसे पता करें?

अब तक आप जान चुके होंगे कि आईपी ऐड्रेस क्या है? और इसका उपयोग किस लिए किया जाता है परन्तु क्या आप जानते हैं कि आप अपना आईपी एड्रेस कैसे पता कर सकते हैं? आईपी एड्रेस को पता करने के कई तरीके हैं जिनमें से दो तरीके निम्नलिखित दिए गए हैं –

ब्राउज़र के द्वारा

इसके लिए आपको सबसे पहले अपना ब्राउज़र ओपन करना है।

इसके बाद अपने ब्राउज़र में My IP Address लिखकर सर्च करना होगा।

इसके बाद आपको शुरुआत में ही आपके डिवाइस का आईपी ऐड्रेस दिखाई दे जाएगा।

Command prompt के द्वारा

  • इसके लिए सबसे पहले आपको अपने कंप्यूटर के विंडोज सर्च बार में cmd लिखकर सर्च करना होगा जिसके बाद Command prompt पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपको Ipconfig को टाइप करके इंटर प्रेस करना होगा।
  • जिसके बाद आपके सामने आपके डिवाइस का आईपी ऐड्रेस दिखाई देने लगेगा।

आईपी एड्रेस के उपयोग

आईपी एड्रेस के प्रमुख उपयोग निम्नलिखित दिए गए हैं –

  • किसी नेटवर्क से अनेक डिवाइस को ip-address के माध्यम से आपस में कनेक्ट किया जाता है।
  • इंटरनेट का उपयोग करने के लिए IP Address सबसे प्रमुख होता है।
  • इंटरनेट के द्वारा डाटा को एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस तक ट्रांसफर करने के लिए ip-address का प्रयोग किया जाता है।
  • आईपी एड्रेस प्रत्येक डिवाइस का एक एड्रेस होता है जो उसकी पहचान होती है।

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हमने जाना कि आईपी एड्रेस क्या है? आईपी ऐड्रेस कितने प्रकार के होते हैं? तथा आईपी ऐड्रेस के उपयोग कौन-कौन से हैं यदि आपको इस आर्टिकल में आईपी एड्रेस के बारे में दी गई यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और इसी प्रकार की हेल्पफुल, महत्वपूर्ण और लेटेस्ट जानकारी के लिए नोटिफिकेशन वेल को जरूर सब्सक्राइब करें।

ये भी पढ़े –

FAQ

आईपी ऐड्रेस के कितने भाग होते हैं?

IPv4 वर्जन में 4 भाग होते हैं तथा ipv6 में 8 भाग होते हैं ipv4 आईपी एड्रेस को दशमलव के द्वारा विभाजित किया जाता है जबकि IPv6 में आईपी एड्रेस को कोलन के द्वारा विभाजित किया जाता है।

आईपी एड्रेस कितने प्रकार के होते हैं?

मुख्य रूप से आईपी एड्रेस दो प्रकार के होते हैं प्राइवेट आईपी ऐड्रेस तथा पब्लिक आईपी ऐड्रेस।

अपना आईपी ऐड्रेस कैसे पता करें?

अपना आईपी एड्रेस पता करने के लिए आपको गूगल में My IP Address लिखकर सर्च करना होगा जिसके बाद स्क्रीन पर आपको आपका आईपी एड्रेस दिखाई दे जाएगा।

मेरे फोन का आईपी एड्रेस क्या है?

यदि आपको अपने फोन के आईपी एड्रेस के बारे में पता करना है तो आपको अपने मोबाइल सेटिंग में जाकर About Device > Status ओपन करना है जिसके बाद आपके फोन का IP एड्रेस आपको दिख जाएगा।

Sharing Is Caring:

Leave a comment