Advertisements

Cryptocurrency tax क्या है | Cryptocurrency tax in india Hindi

आज हम इस आर्टिकल में बात करने वाले हैं cryptocurrency Tex क्या है और in india के बारे में, इंडिया में crypto currency पर कितना tax लिया जाएगा। दोस्तों cryptocurrency के बारे में आये दिन कई सारी बाते होती रहती है, cryptocurrency क्या है, यह इंडिया में लीगल है या फिर नहीं।

दोस्तों इस बार संसद में बजट 2022-23 में cryptocurrency पर काफी चर्चा हुई है और Cryptocurrency को इंडिया बैन नहीं किया गया है यह न्यूज़ उन इन्वेस्टर्स के लिए काफी अच्छी है जो कि क्रिप्टोकरेंसी में इन्वेस्टमेंट करते हैं या इन्वेस्टमेंट कर चुके हैं।

Cryptocurrency Tax क्या है?

भारत सरकार ने 1 फरवरी 2022 को इस बार के बजट में Cryptocurrency पर चर्चा की गई है और Crypto currency को भी अब इंडिया में लीगल मान लिया गया है, परन्तु Cryptocurrency को एक कर्रेंसी नहीं माना जायेगा इसको वैलिड करेंसी का दर्जा नहीं दिया गया है।

Cryptocurrency tax in india Hindi
Cryptocurrency tax in india
Advertisements

इंडिया में Cryptocurrency को वर्चुअल डिजिटल एसेट के रूप में माना जायेगा और इसको बेचने पर टैक्स देना होगा। अभी तक लोगो को यह पता नही होता था कि वर्चुअल डिजिटल एसेट या NFT पर किस हिसाब से टैक्स किया जाएगा परन्तु अब भारत सरकार ने इसपर गाइडलाइंस बना दी है।

Government Guidelines
Any income from transfer of any virtual digital assets Shall be Texed at the Rate of 30 Percent.

भारत सरकार की इस गाइडलाइंस के हिसाब से आपको वर्चुअल डिजिटल एसेट (Crypto Currency) को सेल करने के बाद जो भी फायदा होगा उसमे से आपको 30 प्रतिशत टैक्स भारत सरकार को चुकाना होगा।

मान लीजिए क्रिप्टोकरेंसी सेल करने पर आपका ₹10,000 का फायदा हुआ है तो इसमे से 30 प्रतिशत के हिसाब से ₹3,000 आप सरकार को टैक्स के रूप में देगे और बाकी शेष ₹7,000 का फायदा आपके पास रहेगा।

अब एक सबाल यह भी आता है कि यदि आपको क्रिप्टोकरेंसी में नुकसान होता है तो भी क्या आपको टैक्स चुकाना होगा, तो इसका जबाब है बिल्कुल नहीं यदि आपको क्रिप्टोकरेंसी में नुकसान होता है तो आपको टैक्स नही देना होगा क्योंकि यह टैक्स केवल लाभ पर एप्लिकेवल है। परन्तु यदि आपको क्रिप्टोकरेंसी में नुकसान होता है तो वह आपको पूरा नुकसान स्वयं ही उठाना पड़ेगा सरकार किसी भी प्रकार की कोई मदद या कन्सेशन नही देगी। मतलब की आपका फायदा, सरकार का फायदा होगा और कपक नुकसान सिर्फ आपका नुकसान होगा।

Cryptocurrency Tax किस प्रकार से लिया जाएगा ?

Cryptocurrency ट्रेडिंग में आपको किस हिसाब से टैक्स देना होगा इसको हम आसान भाषा में समझते हैं यदि अपने 1 लाख रुपये के क्रिप्टोकरेंसी ख़रीदी जिसमे से अपने ₹50,000 में बिटकॉइन खरीदा और ₹50,000 का रिप्पल कॉइन खरीद लिया। अब बात करे बिटकॉइन की तो अपने 50000 रुपये का खरीदा और 70000 रुपये का बेचा तो आपको इसमे 20000 रुपये का लाभ हुआ। वही अपने 50000 रुपये का रिप्पल खरीदा और 40000 रुपये का बेच दिया जिसमें आपको 10000 रुपये का नुकसान हुआ तो अब आपसे किस अमाउंट पर टैक्स लगेगा।

● आपसे यह टैक्स total income पर लगेगा। मतलब की अपने लाभ हुआ 20000 रुपये और नुकसान हुआ 10000 रुपये का तो इसमे आपका कुल लाभ ₹10,000 का हुआ जिसपर आपको टैक्स देना होगा  जो कि ₹10000 का 30% के हिसाब से ₹3000 होगा।

● इसमे सबसे अधिक ध्यान देने वाली बात यह है कि यह सभी लाभ और नुकसान का एडजस्टमेंट एक फाइनेंसियल ईयर में हो रहा है जो कि 1 अप्रैल से 31 मार्च तक होता है।

● गवर्मेन्ट का कहना है अपने जितने रुपये में भी डिजिटल एसेट बेचे है उसमें से आप खरीदे गए डिजिटल एसेट की धनराशि को घटा दे उसके बाद जो भी पैसा बचता है वह आपका लाभ होगा जिसपर आपको टैक्स देना होगा इसमे आप अपना कोई अन्य खर्चे नहीं जोड़ सकते हैं।

वर्चुअल डिजिटल एसेट क्या है?

वर्चुअल डिजिटल एसेट का अर्थ एक ऐसी करेंसी जो किसी भी देश या ऐजेंसी के द्वारा रेगुलेट नहीं कि जा रही है, जो कि क्रिप्टोग्राफिक माध्यम, टोकन या फिर किसी कोड के द्वारा बनाई गई है जो किसी भी देश की मुद्रा न हो और decentralized currency हो, उसे वर्चुअल डिजिटल एसेट कहा जाता है। क्योंकि यह किसी एक व्यक्ति या संस्था के कंट्रोल में नही होती है। इसके अलावा वर्चुअल डिजिटल एसेट में NFT या इसी प्रकार के और भी अन्य टोकन शामिल हैं।

Crypto Tax Fairness Act क्या है?

क्रिप्टोकरेंसी को Mainstream से जोड़ने के लिए अमेरिकन लॉक मेकर्स ने संसद में एक क्रिप्टोकरेंसी बिल पारित किया ताकि क्रिप्टोकरेंसी को लीगल बनाकर इसके इस्तेमाल को बढ़ाबा दिया जा सकें, जिसको Crypto Tax Fairness Act कहा गया है। इस Act को लाने का उद्देश्य क्रिप्टोकरेंसी पेमेंट को बैध पेमेंट बनाना था। अमेरिका के इस कदम से दूसरे देशो पर भी क्रिप्टोकरेंसी को लेकर अच्छा प्रभाव पड़ सकता है जिसके फलस्वरूप आने वाले समय मे क्रिप्टोकरेंसी के नियमों में और भी बदलाव देखने को मिल सकते हैं।

क्या क्रिप्टो में गिफ्ट लेने या देने से लगेगा Tex

जी हा दोस्तों यदि आपका कोई सम्बधी (relative) आपको कोई क्रिप्टोकरेंसी गिफ़्ट करता है तो उसपर आपको टैक्स देना होगा जो कि आपको 1 प्रतिशत TDS (Tex Deducted At Source) के रूप में आपसे लिया जाएगा। यह केवल तभी लिया जाएगा जब आपके गिफ्ट की वैल्यू ₹50000 या उससे अधिक होगी, इससे नीचे की धनराशि पर यह टैक्स नहीं लिया जायेगा।

ये भी पढ़े –

FAQ

भारत मे क्रिप्टोकरेंसी पर कितना टैक्स लगेगा ?

भारत में क्रिप्टोकरेंसी पर 30 प्रतिशत टैक्स का प्रावधान किया गया है।

क्या बिटकॉइन की कमाई पर इंडिया में टैक्स देना होगा ?

जी हाँ, बिटकॉइन या उसके अलावा कोई भी क्रिप्टोकरेंसी जो आप सेल करेगे सभी पर आपको टैक्स देना होगा।

क्या आपको क्रिप्टो रखने के लिए टैक्स देना होगा ?

दोस्तों जब तक आप क्रिप्टोकरेंसी अपने वॉलेट में रखते है तब तक आपसे कोई टैक्स नहीं लगेगा परन्तु जैसे ही आप क्रिप्टोकरेंसी को सेल करेगे तो उसपर होने वाले लाभ पर आपको टैक्स देना होगा।

क्या एयरड्रॉप्ड क्रिप्टो टोकन या एनएफटी पर भी देना होगा टैक्स ?

एक्सपर्ट का कहना है कि केवल क्रिप्टोकरेंसी निवेशक ही नही वल्कि उन यूज़र्स को भी टैक्स देना होगा जिन्होंने gift के रूप में Crypto Airdrops टोकन या NFT टोकन प्राप्त किया है। परन्तु इस tax के लिए कम से कम ट्रांजेक्शन वैल्यू ₹50,000 होना चाहिये।

Sharing Is Caring:

Leave a comment