Web 2.0 क्या है? Web 2.0 kya hai in hindi

दोस्तों मेरे इस ब्लॉग में आपका स्वागत है और आज में आपको बताने वाला हूँ कि Web 2.0 kya hai, Web 2.0 कैसे काम करता है, यह कब लॉन्च किया गया था इसके क्या फीचर्स हैं और हमारे जीवन में या कहे कि इंटरनेट की दुनिया में Web 2.0 का कितना महत्व है।

इसके उपयोग में आने से Computer और इंटरनेट की दुनिया में क्या बदलाव हुए हैं, इन्हीं सब टॉपिक पर आज हम चर्चा करने वाले हैं। इसके अलावा हम इस पोस्ट में web 1.0 क्या होता है, यह कैसे काम करता था। Web 2.0 kya hai और इससे जुड़ी पूरी जानकारी के लिए इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़ें।

Web 1.0 क्या है?

दोस्तों इससे पहले हम जाने की Web 2.0 kya hai उससे पहले हम जान लेते हैं कि web क्या होता है। एक ऐसी वेबसाइट जो सार्वजनिक रूप में internet पर उपलब्ध बहुत सारे web पेजो का कलेक्शन होता है उसे वेबसाइट या web 1.0 कहा जाता है।

web 1.0 में एडमिन जो डेटा या इन्फॉर्मेशन शेयर करता है यूज़र्स उस डेटा को सिर्फ देख सकते हैं और पढ़ सकते हैं। उस डेटा में एडिटिंग नही कर सकते हैं और न ही उस वेबसाइट या डेटा के बारे में (comment) टिप्पणी कर सकते हैं यह वेबसाइट का साधारण रूप होता है जिसे web 1.0 कहा जाता है।

Web 2.0 kya hai in hindi

दोस्तों बात करे Web 2.0 की तो इसको पहली बार वर्ष 1999 में इंट्रोड्यूस किया गया था जो कि www (world wide Web) या कहे Web 2.0 को रेफर करता है Web 2.0 को पहली बार वर्ष 2004 में इंट्रोड्यूस किया गया था जो कि www (world wide Web) या कहे Web 2.0 को रेफर करता है।

इसका साधारण रूप से कहे तो आप यह भी समझ सकते हैं कि Web 2.0 को आप वेबसाइट की Second generation भी कह सकते हैं। अगर हम बात करे कि Web 2.0 , Web 1.0 से किस तरह से अपग्रेडेशन किया गया है और Web 2.0  में आपको क्या नये फीचर्स देखने को मिलते हैं।

Web 2.0  का सबसे फीचर यह है कि अब यूजर वेबसाइट या ब्लॉग पर अब ना सिर्फ देता को पढ़ सकते वल्कि उस देता में बदलाव भी कर सकते हैं जो कि Web 1.0 में संभव नहीं था, जिसका सबसे बड़ा उदाहरण wikipedia है। जो कि ओपन सोर्स है जिसमें कोई भी चेंज कर सकता है।

Web 2.0 का दूसरा फीचर यह है कि अब हम किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट पर डेटा को पढ़ने के साथ उस पर टिप्पणी भी कर सकते हैं। Web 2.0  का सबसे बड़ा फीचर यह है कि यूजर वेबसाइट पर अपना एकाउंट बनाकर जानकारी शेयर कर सकते हैं और दूसरे यूजर की पोस्ट को लाइक कर सकते हैं और कमेंट कर सकते हैं।

इसके एडमिन से परमिशन लेने की कोई आवश्यकता नहीं होती है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण सोशल नेटवर्किंग साइट्स है। जिनका उपयोग आज बहुत ही आम हो चुका है।

Web 2.0 कैसे काम करता है?

Web 2.0 kya hai? Web 2.0 features
Web 2.0

यदि हम बात करे कि Web 2.0 कैसे काम करता है तो इसमे 2 way comunication होता है क्योंकि इसमे यूज़र्स अपना एकाउंट बनाने के साथ अपना कंटेंट भी पब्लिश कर सकते हैं जैसे कि हम wikipedia में करते हैं।

इसके साथ Web 2.0 यूजर को किसी दूसरी वेबसाइट के लिये back link बनाने का मौका भी देता है जिससे आप अपनी दूसरी वेबसाइट को भी लिंक कर सकते हैं। Web 2.0 ऐसी publisher वेबसाइट होती है जो यूजर को यूनिक पेज, यूनिक कंटेंट और यूनिक URL बनाना Allow करती हैं।

Web 2.0 के फीचर्स

Web 2.0 kya hai? Web 2.0 features
Web 2.0 features

Link Building

Web 2.0 का सबसे बड़ा फीचर लिंक बनाने का है इसकी मदद से आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट के लिए बहुत ही आसानी से back link बना सकते हैं। यहा से आप पॉवरफुल हाई क्वालिटी No follow और हाई क्वालिटी dofollow back link बना सकते हैं जिसको SEO की भाषा में 2.0 Back link कहते हैं।

Web 2.0 काफी ज्यादा हाई DA की साइट होती हैं अगर आपको यहां से बैकलिंक मिलती हैं तो आपके वेबसाइट के SEO पर काफी अच्छा असर दिख सकता है।

Traffic

Web 2.0 की मदद से आप अपने नए या पुराने किसी भी ब्लॉग पर अच्छा ट्रैफिक ला सकते है। ट्रैफिक लाने का सबसे पहला तरीका सोशल मीडिया है जो कि Web 2.0 के अंतर्गत आता है।

जैसे कि फेसबुक पर लिंक शेयर करके, pinterest पर लिंक शेयर करके, youtube, टेलीग्राम ऐसे बहुत सारे प्लेटफॉर्म हैं जहाँ से आप अपने ब्लॉग के लिए फ्री में ट्रैफिक ला सकते हैं।

इन प्लेटफॉर्म में प्रोफाइल बनाकर bio में अपना वेबसाइट का लिंक शेयर करके backlink भी create कर सकते हैं और ट्रैफिक लेकर अपनी वेबसाइट से फ्री में पैसे कमाए जा सकते हैं।

Web 2.0 के उदाहरण

1. Blogs

Web 2.0 में उदाहरण की बात करे तो इसमे काफी तरह के blogs आ जाते हैं। जो भी वेबसाइट प्लेटफॉर्म हमे अपना कंटेंट शेयर करने की परमिशन देती है या जहा पर हैम अपना यूनिक कंटेंट शेयर करते हैं उन्हें blogs कहते हैं जिसके कुछ उदाहरण निम्नलिखित दिये गए हैं-

Blogger -: यह गूगल का एक फ्री प्लेटफॉर्म है जहाँ पर हमलोग अपना Gmail की मदद से एकाउंट बना सकते है। ब्लॉगर आपको फ्री Blogspot.com डोमेन फ्री दिया जाता है। इसमे आपको कस्टम डोमेन के साथ भी प्रोफेशनल वेबसाइट बना सकते हैं। इसमे आप 2.0 backlink बना सकते हैं।

WordPress -: यह भी एक ओपन सोर्स Web 2.0 प्लेटफॉर्म है जिसमे हम अपना एकाउंट बनाकर कंटेंट पब्लिश कर सकते हैं Jओ की ब्लागिंग फील्ड का लगभग 70 प्रतिशत कबर करके रखा है। WordPress में आपको वेबसाइट बनाने के लिए डोमेन के साथ होस्टिंग भी खरीदनी पड़ती है। इसमें भी 2.0 बैकलिंक बनाए जा सकते हैं और गूगल पर रैंक भी कर सकते हैं। यह प्लेटफॉर्म ब्लॉगिंग के लिए बेस्ट प्लेटफॉर्म है।

Tumbler -: यह वेबसाइट भी wordpress की तरह ही है जिसपर आप कंटेंट पोस्ट करके हाई क्वालिटी पॉवरफुल backlink जनरेट कर सकते हैं जो कि किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट की रैंकिंग के लिए काफी ज्यादा हेल्पफुल है।

Weebly -: यह website भी 2.0 वेबसाइट की कैटेगरी में ही आती है। अगर आप Weebly पर एकाउंट बनाकर पोस्ट पब्लिस करते है तो आप यहाँ से भी हाई क्वालिटी dofollow backlink प्राप्त कर सकते हैं।

Wikidot -: यह वेबसाइट भी हाई अथॉरिटी वेबसाइट है यहाँ से भी आप अपनी प्रोफाइल बनाकर और कंटेंट शेयर करके 2.0 बैकलिंक प्राप्त कर सकते हैं जी की आपके ब्लॉग या वेबसाइट को रैंक करने में काफी हेल्प करेगी।

2. Wikipedia

दोस्तों अगर बात करें Web 2.0 के उदाहरण की तो wikipedia Web 2.0 का सबसे अच्छा उदाहरण है क्योंकि wikipedia में कोई भी यूजर अपना एकाउंट बनाकर उसमें एडिटिंग कर सकता है।

आपके कंटेंट की विकिपीडिया में तभी apruve किया जायेगा जब वह जानकारी पूरी तरह से सही होगी। यदि आपका कंटेंट अप्रूव हो हटा है तो आप विकिपीडिया से हाई क्वालिटी do follow back link भी बना सकते हैं, जो कि आपके ब्लॉग या वेबसाइट को boost कर सकती है।

3. Social networking

Web 2.0 का सोशल नेटवर्किंग सबसे बड़ा उदाहरण है जो कि सबसे ज्यादा उपयोग किया जाने वाला प्लेटफॉर्म है। आजकल सायद ऐसा कोई नही होगा जो इंटरनेट से कनेक्ट हो और सोशल मीडिया का इस्तेमाल नहीं करता हो।

इंटरनेट को उपयोग करने वाले लगभग 95 प्रतिशत लोग सोशल मीडिया पर एक्टिव होते हैं। अगर आप सोशल मीडिया में अपना प्रोफाइल बनाकर उसमें अपनी वेबसाइट का लिंक जोड़ते हैं तो वह लिंक भी आपके लिए एक तरह से बैकलिंक का काम करती है परन्तु आपको यहाँ से कोई dofollow बैकलिंक नहीं मिलती है।

आप सोशल नेटवर्किंग साइट्स के द्वारा भी अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर अच्छा ट्रैफिक ला सकते है और वेबसाइट की रैंकिंग में भी सुधार कर सकते हैं। कुछ सोशल नेटवर्किंग साइट्स के उदाहरण निम्नलिखित दिये गए हैं-

Web 2.0 kya hai? Web 2.0 features
Web 2.0 Sites

1. Facebook
2. Instagram
3. twitter
4. YouTube
5. Pinterest

Conclusion

दोस्तों जैसा कि अपने पोस्ट में जाना Web 2.0 kya hai? Web 2.0 कैसे काम करता है? हमने आपको इसमे Web 2.0 के कुछ उदाहरण के बारे में भी बताया है।

अगर सीधे शब्दों में कहा जाये तो Web 2.0 वेबसाइट की दूसरी जनरेशन है जिसमे 2 way comunication होता है जिससे वेबसाइट में admin के साथ साथ यूज़र्स भी कंटेंट में एडिटिंग कर सकते हैं, कमेंट कर सकते हैं, अपना कंटेंट अपलोड भी कर सकते हैं और अपनी वेबसाइट का लिंक जोड़कर 2.0 बैकलिंक भी प्राप्त कर सकते हैं। मैं आशा करता हूँ कि यह जानकारी Web 2.0 kya hai और यह कैसे काम करता है आपको अच्छे से समझ में आ गई होगी।

दोस्तों अगर आपको हमारी यह पोस्ट Web 2.0 kya hai? अच्छी या हेल्पफुल लगी हो तो इस knowledge को अपने दोस्तों में जरूर शेयर करे। धन्यवाद।

Sharing Is Caring:

Leave a comment