artificial intelligence क्या है? यह कैसे काम करता है? (Artificial Intelligence In Hindi)

Hello दोस्तों अगर आप जानना चाहते हैं कि artificial intelligence क्या है और यह कैसे काम करता है तो इस आर्टिकल में artificial intelligence के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी। इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको artificial intelligence को लेकर कोई भी कंफ्यूजन नही रहेगा और आपको कही और फिर से दोबारा इस टॉपिक को लेकर परेशान नही होना पड़ेगा क्योंकि इस आर्टिकल में आपको आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से जुड़ी सभी जानकारी मिल जाएगी।

Artificial intelligence क्या है?

artificial intelligence कंप्यूटर की दुनिया का ऐसा पार्ट है जो कि सेल्फ अंडरस्टैंडिंग पर कार्य करता है, artificial intelligence की इस दुनिया में मसीनो को इतना एडवांस बनाया जाता है कि मशीनों के अंदर सोचने समझने और फैसला करने की क्षमता बिना किसी कमांड के विकसित की जाती है।

Artificial intelligence क्या है
Artificial intelligence क्या है

अगर हम सरल भाषा में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को समझे तो ऐसा युग जिसमे मशीने जीवित मनुष्य की तरह सोच सके, समझ सके और बिना किसी अन्य ऑब्जेक्ट के स्वयं निर्णय ले सके। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का एक प्रमुख भाग मशीन लर्निंग है क्योंकि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पूरी तरह से मशीन लर्निंग पर कार्य करता है।

कुछ जानकारों का कहना है कि मशीन लर्निंग फ्यूचर टेक्नोलॉजी है या सरल भाषा में कहे तो मशीन लर्निंग टेक्नोलॉजी का फ्यूचर है परन्तु आज तो टेक्नोलॉजी विकसित हो चुकी है उसको देखकर लगता है कि मशीन लर्निंग का समय सुरु हो चुका है और इसको हम टेक्नोलॉजी का फ्यूचर नहीं वल्कि टेक्नोलॉजी का प्रजेंट भी कह सकते हैं।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के द्वारा इस प्रकार के कंप्यूटर या रोबोट बनाये जा रहे है जो कि मनुष्यों की तरह ही सोच समझ कर निर्णय ले सके। artificial intelligence एक ऐसा प्रोग्राम है जिसकी मदद से मशीनों को ह्यूमन की तरह प्रकृति से इंटरेक्ट करें और किसी भी परिस्थिति में सही निर्णय ले सके।

आज बहुत सी कंपनिया artificial intelligence और मशीन लर्निंग पर फोकस कर रही हैं क्योंकि वह अच्छी तरह से समझती हैं कि आने वाले समय में मनुष्यों की लाइफ में AI मशीनों का एक अलग स्थान होगा। जिस तरह मनुष्य अपने अनुभव से अपनी क्षमता को बढ़ाता है ठीक उसी प्रकार Ai के द्वारा मशीनें भी अपने अनुभव के द्वारा अपनी क्षमता को और भी वेहतर करते रहते हैं।

Artificial intelligence की शुरुआत

दोस्तों अगर हम बात करे कि artificial intelligence की सुरुआत कब हुई थी तो इसके बारे में 1950 के दशक को artificial intelligence की सुरुआत के रूप में माना जाता है परन्तु तब इसके महत्व को कोई ज्यादा पहचान नहीं मिली।

artificial intelligence के महत्व को 1970 के दशक में अलग ही पहचान मिली। सबसे पहले 1955 में जॉन मेकार्थे के द्वारा artificial intelligence शब्द का उपयोग किया गया था। वो पहले अमेरिकन बैज्ञानिक थे जिन्होंने 1956 में पहली बार artificial intelligence के बारे में प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया। इसलिए जॉन मेकार्थे को फादर ऑफ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस भी कहा जाता है।

Web 2.0 क्या है? Web 2.0 Features

Web 3.0 क्या है? Web 3.0 Features

Starlink Satellite Internet Kya Hai

Artificial intelligence कैसे काम करता है?

दोस्तों यदि हम बात करे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कैसे काम करता है और इसको किस तरह के काम के लिए विकसित किया जा रहा है। जैसा कि हम आपको बता चुके हैं कि artificial intelligence (क्रतिम बुध्दिमत्ता) का मतलब ही होता है कि स्वयं में सोचने, समझने, सीखने और निर्णय लेने की क्षमता को विकसित करना।

यदि AI का उपयोग जानकारी जुटाने वाली चीजों में किया जाता है तो हमे सिर्फ प्रश्न करना होता है और AI सिस्टम खुद से एनालेसिस करके विल्कुल सही उत्तर ढूढ़ कर देता है। यदि कोई AI रोबोट है और और उसके आसपास कोई घटना होती है तो वह रोबोट AI की मदद से उन हालात के हिसाब से निर्णय ले सकता है जिस प्रकार कोई मनुष्य उन हालात में कोई भी निर्णय लेता।

Artificial intelligence के प्रकार

दोस्तों artificial intelligence (क्रतिम बुद्धिमत्ता) ने इस दौर में लगभग सभी जगह अपना अपना अधिकार करना सुरू कर दिया है अगर हम बात करे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के प्रकार की तो सामान्यतः इसको दो भागों में वॉटा जा सकता है-

मजबूत बुद्धिमत्ता (Strong AI) -: Strong AI का उपयोग उस माइंडसेट को ध्यान में रखकर किया जाता है जिसमे कोई भी मशीन मनुष्यों की भांति निर्णय ले सके और मनुष्य के बराबर मजबूत हो। मजबूत बुद्धिमत्ता के द्वारा ऐसी मशीनों को बनाया जाता है जो मनुष्य की तरह सोच कर मनुष्य की तरह ही कार्य कर सके। इसमे अभी बहुत अधिक सफलता तो नही मिली है परन्तु इसी की तरफ चलते हुए मनुष्य ने शोफिया जैसे AI रोबोट बना लिए हैं।

कमजोर बुद्धिमत्ता (Weak AI) -: Weak AI जिसको नैरो AI के नाम से भी कहा जाता है यह कमजोर बुद्धिमत्ता पूरी तरह से छोटे छोटे कामों के लिए उपयोग की जाती है। इसके द्वारा चलाई जा रही मशीनों को बहुत ही अच्छा वर्क करने के लिए दिखाया जाता है परन्तु बास्तव में weak AI उतने अच्छे से काम नही करती है उदाहरण के लिए जैसे कि आप कोई भी कार रेसिंग गेम खेलते हैं तो आपके अलावा जो भी कार आपको देखने को मिलती हैं वह कंप्यूटर के AI सिस्टम के द्वारा ही सम्भव है।

Artificial intelligence के उदाहरण

अगर हम बात करे artificial intelligence के उदाहरण की तो आपको आज के दौर में artificial intelligence (क्रतिम बुद्धिमत्ता) के अनेकों उदाहरण देखने को मिल जायेंगे जिनमे से कुछ उदाहरण निम्नलिखित दिये गए हैं-

Apple Siri -: दोस्तों अगर हम बात करे एप्पल के सिरी की तो यह artificial intelligence (क्रतिम बुद्धिमत्ता) का सबसे बेहतरीन उदाहरण है। इससे आप कई सारे काम करवा सकते हैं जैसे कि किसी को मैसेज करना, कोई इन्फॉर्मेशन सर्च करना, अलार्म लगाना या फिर किसी भी ऐप्प को ओपन करना इत्यादि।

Google Assistant -: दोस्तों अगर हम इसकी बात करे तो Google Assistant भी सिरी की तरह ही आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर कार्य करना है इससे भी आप बहुत सारे ऐसे काम करवा सकते है जो कि आपको खुद से करने होते थे जैसे कि किसकी को कॉल करना कोई मूवी चलाना या फिर कोई इनफार्मेशन सर्च करना यह सभी काम गूगल असिस्टेंट आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से करता है।

Amazon Eco -: दोस्तों Amazon Eco भी सिरी और गूगल असिस्टेंट की तरह ही आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर कार्य करती है इससे भी आप दूर बैठे बैठे कार्य करवा सकते है जैसे कि कोई गाना प्ले करना हो, tv ऑन करना है फैन ऑन या ऑफ करना हो, लाइट ऑन या ऑफ करनी हो। किसी को कॉल करना हो। ऐसे बहुत सारे कार्य AI की मदद से किये जाते हैं।

Tesla -: artificial intelligence का एक और महत्वपूर्ण उदाहरण टेस्ला है जो कि Ai पर आधारित कार बना रहा है जो कि ड्राइवर लेस कर होंगी और इन सभी कारो को artificial intelligence की सहायता से चलाया जाएगा। टेस्ला कार अपने आप मे एक artificial intelligence मशीन है जो कि स्वयं ही सभी निर्णय लेने में सक्षम है।

Robot Sofiya -: दोस्तों अगर हम बात करें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के सबसे बड़े उदाहरण की तो वह एक रोबोट है। पहला रोबोट जिसने कि AI पर कार्य करना सुरु किया था उस रोबोट का नाम सोफिया है। यह दुनिया का पहला रोबोट था जो कि मनुष्यों की तरह कुछ हद तक सोच सकता था और किसी भी प्रश्न का उत्तर देने में सक्षम है।

Artificial intelligence के उपयोग

Artificial intelligence क्या है
Artificial intelligence

दोस्तों अब हम बात करते है आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का किन किन क्षेत्रो में उपयोग किया जाता है और किस तरह से artificial intelligence अनेक क्षेत्रों में काम को बहुत ही आसान बना रहा है AI के कुछ प्रमुख उपयोग निम्लिखित दिये गए हैं-

AI in healthcare
अगर हम बात करे healthcare इंडस्ट्री की तो इसमे AI की बहुत हिनबाड़ी भूमिका है। इस इंडस्ट्री में सबसे बड़ा उपयोग पेसेंट को अच्छा और सटीक इलाज की व्यवस्था करना होता है जो कि विना AI मशीनों के यह सब सम्भव नहीं है। आज healthcare इंडस्ट्री में अनेक बीमारिया फैल रही हैं और उनका पता लगाना अपने आप में एक चुनौती है जो AI मशीनों से काफी सटीक और सही किया जाता है।

AI in education
अगर हम education फील्ड में AI की बात करे तो इस इंडस्ट्री भी अब ऑनलाइन लर्निंग के जमाने मे artificial intelligence का उपयोग सुरु हो चुका है। आज AI ट्यूटर की मदद से ऑनलाइन स्टडी करने वाले सभी स्टूडेंट्स घर बैठे अपने सबालों के हल प्राप्त कर लेते हैं।

AI in finance
artificial intelligence की मदद से finance इंडस्ट्री में डेटा एनालेसिस काफी सरल हो गया है। AI से पहले डेटा एनालेसिस में बहुत ही ज्यादा समय और खर्चा लगता था परन्तु AI के आने के बाद अब डेटा एनालेसिस बहुत ही सरल हो चुका है।

AI in manufacturing
आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग manufacturing इंडस्ट्री में काफी तेजी से किया जा रहा है क्योंकि जो काम मनुष्य काफी समय लेकर करता है वही काम को AI मशीनों के द्वारा बहुत ही कम समय में आप अच्छी क्वालिटी के साथ किया जा रहा है।

Artificial intelligence के फायदे

1. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से इंसान बहुत से कार्य बिना कोई समय खराब करके मशीनों के द्वारा आसानी से कर सकते हैं।
2. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के आने से समय की बहुत बचत होगी।
3. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से कार्य करने की सुद्धता में बृद्धि होगी।

Artificial intelligence के नुकसान

1. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के आने से सबसे बड़ा खतरा मानव जीवन पर हो सकता है।
2. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से मशीने स्वयं ही निर्णय लेने लगेगी और यदि उनपर कंट्रोल नही किया गया तो भविष्य मे मानव से आगे निकलकर मानव दुनिया बर्बाद कर सकती है।
3. विशेषज्ञों का मानना है कि अगर सोचने समझने वाले रोबोट मानव को अपना सत्रु मानने लगे तो वह पूरी मानवता को खत्म कर सकते हैं।
4. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से बहुत से कार्य मशीनों के द्वारा किये जाने लगेंगे तो भविष्य में बेरोजगारी की समस्या बहुत ज्यादा हो सकती है।

Conclusion

दोस्तों इस पोस्ट में हमने आपको Artificial intelligence क्या है? आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कैसे काम करता है आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के क्या फायदे और क्या नुकसान है इससे जुड़े बहुत सारी जानकारी दी है। यदि आपको हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। यदि आप हमें कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कॉमेंट करके हमे बता सकते हैं।

Artificial intelligence FAQ

AI कैसे काम करता है?

यदि AI का उपयोग जानकारी जुटाने वाली चीजों में किया जाता है तो हमे सिर्फ प्रश्न करना होता है और AI सिस्टम खुद से एनालेसिस करके विल्कुल सही उत्तर ढूढ़ कर देता है। यदि कोई AI रोबोट है और और उसके आसपास कोई घटना होती है तो वह रोबोट AI की मदद से उन हालात के हिसाब से निर्णय ले सकता है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उद्देश्य क्या है?

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का मुख्य उद्देश्य समय की बचत और मानव जीवन में मशीनों के द्वारा काम करवा कर कठिन परिश्रम से राहत लेने के लिए किया गया है।

Sharing Is Caring:

Leave a comment